This image represent to processor

All information about the Processor in hindi

प्रोसेसर (Processor)-

आज के समय में हर व्यक्ति डिजिटल टेक्नोलॉजी का प्रयोग करना चाहता है क्योकि यह डिजिटल टेक्नोलॉजी उसकी दिन चर्या को  और  उसके हर काम को आसान बना देता है चाहे उसे बात करना हुआ या किसी प्रकार का अन्य काम। सभी स्थान पर इस टेक्नोलॉजी का प्रयोग किया जा रहा है। आइये जानते उसके बारे में जिसकी वजह से आप इस डिजिटल दुनिया में जी रहे है। यह डिजिटल टेक्नोलॉली Processor पर निर्भर करता है यदि प्रोसेसर न बनता तो इस समय दुनिया के लोगो की लाइफ स्टाइल कुछ और होता।

प्रोसेसर क्या है –

यह एक प्रकार की चीप होती है जो विभिन्न प्रकार के इलेक्ट्रानिक डिवाइस जैसे कम्प्युटर, मोबाइल,लैपटाप में प्रयोग की जाती है। यह इन सभी डिवाइसो का मुख्य इक्युपमेन्ट होता है। इसको विभिन्न नामो से जाना जाता है जैसे- Central Processing Unit (CPU) Micro Processor or Central Processor. यह किसी भी कम्प्युटर या मोबाइल का ब्रेन होता है जिसके बिना हम कोई भी काम नही कर सकते है।

या

यह किसी भी मोबाइल या कम्प्युटर डिवाइस का सबसे जरुरी पार्ट होता है क्योकि यह कम्प्युटर या मोबाइल के हार्डवेयर और साफ्टवेयर के बीच सामजस्य बनाता है ताकी सही परिणाम दे सके।

प्रोसेसर की कार्यप्रणाली-

प्रोससर युजर औऱ कम्प्युटर के बीच मेडियेटर का काम करता है इसका मतलब यह होता है जो इनफार्मेशन युजर द्वारा कम्प्युटर को दिया जाता है उससे पहले यह प्रोसेसर के पास जाता है। प्रोसेसर इसे कोड करके आगे बढ़ाता है।

This image represent to process

जिस प्रकार मनुष्य का ब्रेन सभी प्रोसेस को नियत्रित करता है उसी प्रकार कम्प्युटर का ब्रेन प्रोसेसर यह करता है। यह प्रोसेसर कम्प्युटर की सारी गतिविधियो को नियत्रित करता है। इन सभी गतिविधियो को नियत्रित करने में प्रोसेसर के अन्दर मौजुद विभिन्न युनिटो( ALU,CU,MU) इनकी मदद करते है।

प्रोसेसर के निर्माण कर्ता-

This image represent to ted half

टेड हॉफ द्वारा इसका आविष्कार कुछ कालेज के दोस्तो के द्वारा किया गया था। बाद में इसे इंटेल नाम की कंपनी में परिवर्तित किया गया था। आज कल बहुत सी कम्पनी इसको बना रही है। जैसे-

Intel

AMD

Motorola

Qualcomm

Hewlett Packard(HP)

IBM

Samsung

ये सभी कम्पनीयां प्रोसेसर का निर्माण कर रही है लेकिन इंटेल कंपनी का प्रोसेसर लगभग 90 प्रतिशत बाजार पर कब्जा किये हुए बाकी 10 प्रतिशत में और कम्पनी के प्रोसेसर प्रयोग किये जाते है।

प्रोसेसर बना होता है-

माइक्रोप्रोसेसर मुख्य रुप से क्वार्ज,धातु, सिलिकॉन,और केमिकल से मिलकर बना होता है। प्रोसेसर के इस भाग में हम इंटेल के द्वारा डिजाइन किये गये कुछ प्रोसेसर के बारे में बात करेगें। प्रोसेसर बनाने की शुरुआत इंटेल कंपनी द्वारा किया गया था।

First Processor-

Intel 4004 –

इंटेल का पहला प्रोसेसर 4004 है जो इंटेल कंपनी द्वारा 1971 बनाया गया था। यह 4 बिट प्रोसेसर था। इसके प्रोसेसर के क्लाक का रेट 740 KHz होती थी। इसकी ऐड्रेसिंग मेमोरी 640 बाइट और प्रोग्राम मेमोरी 4KB की होती थी।

Intel 4040-

इस प्रोसेसर का इंटेल द्वारा 1974 में प्रस्तुत किया गया था। इसमे ट्राजिस्टर की संख्या 3000 कर दिया गया था। इसकी प्रोग्राम मेमोरी 8 KB थी। इसकी मैक्सिमम सीपीयु क्लाक रेट 500 से 750 KHz होती थी। यह लगभग 62000 इन्सट्रकंशन पर सेकेण्ड कैलकुलेट करता था।

Intel 8008 –

इस प्रोसेसर को इंटेल द्वारा 1972 के मध्य में प्रस्तुत किया गया था।यह 8 बिट प्रोसेसर था। इसमे ट्राजिस्टर की संख्या 3500 होती थी। इसमे ऐड्रेसिंग मेमोरी 16 KB होती थी। इसकी क्लाक रेट 500 से 800 KHz होती थी।

Intel 8080-

इसको 1974 में प्रस्तुत किया गया था। इसमे ट्राजिस्टर की संख्या 4500 थी। इसकी क्लाक रेट 2 मेगाहर्टज थी।

उबुंटू ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे मे जाने

Intel 8085-

इन्टेल का यह प्रोसेसर 1976 में प्रस्तुत किया गया था। इसमे 6500 ट्राजिस्टर का प्रयोग किया गया था. इसकी क्लाक रेट 3 मेगाहर्टज थी। इस प्रोसेसर में 40 DIP पिन का प्रयोग किया गया था।

Intel 8086 –

इसको iAPX के नाम से भी जाना जाता था। यह 16 बिट माइक्रोप्रोसेसर था। इसको जुन 1978 मे प्रस्तुत किया गया था। इसकी क्लाक रेट 5 मेगा हर्टज थी।इस प्रोसेसर में 29000 ट्राजिस्टर का प्रयोग किया गया था। इस प्रोसेसर ने X86 को जन्म दिया था। यह इंटेल का अबतक का सबसे सक्सेस प्रोसेसर था।इसको IBM द्वारा अपने पीसी में सबसे पहले प्रयोग किया गया था।

Intel 80186 –

यह प्रोसेसर बाजार में आने से पहले 8088 आ चुका था। लेकिन 80186 प्रोसेसर को 1982 में प्रस्तुत किया गया था। इसकी क्लाक रेट 6 मेगाहर्टज थी। इसमे ट्राजिस्टर का प्रयोग 55000 किया गया था। अब इसका शेप आयाताकार से वर्गाकार में कर दिया गया था।

Intel 80286-

यह प्रोसेर 1 फरवरी 1982 में प्रस्तुत किया गया था। इसको iAPX286 या intel286 के नाम से जानते है। इसमे 134,00 ट्राजिस्ट्ररो का प्रयोग किया गया था। इसको 1984 में IBM ने PC/AT में प्रयोग किया गया था और 1990 तक यह अधिकांश पीसी में प्रयोग किया जाने लगा।

यह पहला प्रोसेसर था जिसकी एड्रसिंग मेमोरी 16 MB थी।

iAPX 432-

इस प्रोसेसर का इंटेल द्वारा एक जनवरी 1981 को प्रस्तुत किया गया था। यह intel का पहला 32 बिट प्रोसेसर था। इसका डिजाइन माइक्रो मेन फ्रेम कम्प्युटर के लिए किया गया था। यह पुरी तरह से हाई लेवल लैग्वेज के लिए डिजाइन किया गया था।

Intel 80386DX-

इंटेल के इस प्रोसेसर को अक्टूबर 1985 में 80386 नाम से लांच किया गया था। बाद में इसका नाम बदल कर i386 में बदल दिया गया था। इसमे 275,000 ट्राजिस्टर का प्रयोग किया गया था।यह 32 बिट प्रोसेसर था।

Intel 80486DX –

इस प्रोसेसर का 10 अप्रैल 1989 में प्रस्तुत किया गया था। इस मेमोरी की खासियत थी कि इसमे कैच मेमोरी को सामिल किया गया था। 1.2 मीलियन ट्राजिस्टर का प्रयोग किया गया था। इसको i486DX के नाम से जानते है। इसमे वर्चुअल मेमोरी 64 TB का प्रयोग किया गया था। यह भारत में 1955 के आस पास आया था

Intel 80486Sl –

इस प्रोसेसर का प्रयोग नोटबुक कम्प्युटर के लिए किया गया था। इस प्रोसेसर का 9 नवम्बर 1992 में प्रस्तुत किया गया था। इसकी बस विड्थ 32 विट थी। इसमे 4 जीबी एड्रेसएबल मेमोरी का प्रयोग किया गया था। इसकी वर्चुअल मेमोरी 64 टीवी की थी। यह चौथी पीढ़ी का माइक्रोप्रोसेसर था। यह 40 मीलियन इन्स्ट्रकंशन पर सेकेण्ड कैलकुलेट कर सकता है।

P5-

यह इंटेल का पहला प्रोसेसर जो पेंटियम के नाम से बाजार में आया। इसको इंटेल द्वारा 22 मार्च 1993 को प्रस्तुत किया गया था। यह इंटेल द्वारा 5th जनरेशन के कम्प्युटर में प्रयोग किया गया था। इसमे 3.1 मिलियन ट्राजिस्टर का प्रयोग किया गया था। इसमे Socket 4 का प्रयोग किया गया था।

Pentium Pro –

पेन्टिय प्रो प्रोसेसर 32 बिट का CISC (Comples instruction set computer) है। इंटेल द्वारा इसको 1995 में प्रस्तुत किया गया था। इसमे ट्राजिन्जस्ट की संख्या 5.5 मिलियन था। यह पहला कम्प्युटर था जो ट्रिलियन फ्लोटिंग पांइट ऑपरेशन पर सेकेण्ड कर सकता है। यह पहला कम्प्युटर था जो क्वाड प्रोसेसर और ड्युल प्रोसेसर दोनो के लिए था। इसमे लगभघ 387 पिन का प्रयोग किया गया था।

Pentium 2-

पेन्टियम प्रो प्रोसेसर के बाद 7 मई 1997 को पेन्टियम 2 प्रोसेसर को लांच किया गया था। इसमे ट्राजिस्टर की संख्या 7.5 मिलयन थी। इसकी क्लाक रेट 233 मेगाहर्टज से 450 मेगाहर्टज थी।

इसी का Celeron Series भी आया था जो सस्ते होते थे।

Pentium 2 Xeon Processor-

इसके बाद पेन्टियम 2 Xeon Processor जो 25 अक्टूबर 1999 को लांच किया गया था जो सर्वर के लिए काम करता था। इसमे 9.5 मिलियन ट्राजिस्टर का प्रयोग किया गया था। इसमे L1 और L2 कैच मेमोरी जुड़ी रहती थी। इसकी ऐड्रेसिंग मेमोरी 64 GB थी।

Pentium 3

इसमे 28 मिलियन ट्राजिस्टर का प्रयोग किया गया था। इसक सभी माडेल MMX, SSE को सपोर्ट करते थे। इस प्रोसेसर मे बहुत सारे वर्जन आये जो इस प्रकार है जैसे- Katmai (9.5 मिलियन ट्राजिस्टर का प्रयोग हुआ था),Coppermine(T), Tualatin(130 nm) इसके प्रोसेसर को पेन्टियम 2 के मदरबोर्ड में लगा सकते थे।

इसका Xeon सिरीज भी आये थे।

Pentium M-

इस प्रोसेसर को इंटेल द्वारा मार्च 2003 में लांच किया गया था। इसको मोबाइल प्रोससर भी कहा जाता था क्योकि इसका प्रयोग डेस्कटाम अधिक न करके लैपटॉप के लिए ज्यादातर प्रयोग किया गया था। यह प्रोसेसर थर्मल डिजाइन का था जो जल्दी ठंडा हो जाता था। इसके दो वर्जन Dothan, Banias आये थे।

Intel Core-

इंटेल कम्पनी द्वारा इस प्रोसेसर का 2006 मे लांच किया गया था। इसको सोलो और ड्यो प्रोसेसर भी कहा जाता था। इसके बहुत सारे वर्जन आये। इसका प्रयोग P4 के मदरबोर्ड में भी किया गया था। इसके बाद Dual core processor लांच किया गया था।

Intel Pentium 4 Processor-

इसे कम्पनी द्वारा 20 नवम्बर 2000 को प्रस्तुत किया गया था।इसमे 7 वीं पीढ़ी के का X86 माइक्रोआर्किटेक्टर मौजुद था जिसको नेटबर्स्ट के नाम से जाना जाता था। 1995 में पेंटियम प्रो सीपीयू के पी6 माइक्रोआर्किटेक्चर को पेश किये जाने के बाद से कंपनी का पहला सम्पूर्ण-नया डिजाइन था।

Intel Atom Processor-

इस प्रोसेसर का इंटेल कंपनी द्वारा 2008 में प्रस्तुत किया गया था। इस प्रोसेसर को निश्चित(साफ्टवेयर) पर काम करने के लिए बनाया गया था। इस प्रोसेसर का प्रयोग मोबाइल, लैपटाप या साधारण डेस्कटाप के लिए किया जाता था. इसलिए इसे सिंगल हैडेड सीपीयु बोला जाता है। इसकी क्लाक रेड 600 मेगाहर्ट से 2.6 गीगा हर्टज तक थी।

Core used in Processor-

प्रोसेसर में कोर का प्रयोग इसलिए किया जाता है ताकि डिवाइस के काम करने की गति को बढ़ाया जा सके। जितने कोर की संख्या को बढ़ाया जायेगा उतनी ही डिवाइस की गति बढ़ेगी।

इस समय जो कोर प्रयोग किये जा रहे है वह कुछ निम्न प्रकार है –

Dual Core Processor (दो कोर )

Quad Core Processor(चार कोर)

Hexa Core Processor(छह कोर)

Octo Core Processor (आठ कोर)

Deca Core Processor (दस कोर)

Multi core Processor (बहुत सारे कोर)

प्रोसेसर का मात्रक- सीपीयु के गति को हर्टज, गीगाहर्टज में मापा जाता है।

कम्प्युटर साफ्टवेयर के बारे बेेसिक जानकारी

Basic information of the software in hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!